योग्य होने के बावजूद बताओ क्यों नही दे रहे श्रद्धा यादव को विक्रम अवार्ड।

Spread the love


जबलपुर। मध्यप्रदेश उच्च न्यायालय जबलपुर के न्यायाधीश श्री विशाल धगत — ने दिनांक 5 अक्टूबर को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग पर सुनवाई कर मध्यप्रदेश शासन के प्रमुख सचिव व संचालक , खेल और युवा कल्याण, कु. चिंकी यादव(शूटिंग खिलाड़ी) व कु. राजेश्वरी कुशराम ( वाटर स्पोर्ट खिलाड़ी) को चार सप्ताह का नोटिस जारी कर पूछा है कि बताओ योग्य होने के बावजूद जबलपुर की वूशु खिलाडी श्रद्धा यादव को वर्ष 2019 का विक्रम अवार्ड क्यों नही दे रहे।
श्रद्धा यादव की ओर से पक्ष रखते हुए अधिवक्ता दिनेश उपाध्याय ने न्यायालय को बताया कि पूर्व में एकलव्य अवार्ड प्राप्त श्रद्धा यादव ने वर्ष 2019 में विक्रम अवार्ड हेतु आवेदन किया था जिस पर चयन समिति ने प्रमाण पत्रों के आधार पर श्रद्धा को 245 अंक प्रदान किये , परंतु विगत 28 अगस्त 2020 को खेल विभाग द्वारा घोषित अवार्ड हेतु नॉमिनेटेड खिलाड़ियो की सूची में श्रद्धा का नाम ही नही था बल्कि मात्र 60 अंक प्राप्त कु. चिंकी यादव (शूटिंग खिलाडी) का नाम था , इसी तरह कु. राजेश्वरी कुशराम को व्यक्तिगत खेल की कैटेगरी में विक्रम अवार्ड हेतु नॉमिनेट किया गया जबकि उसकी उपलब्धिया ड्रेगन बोट खेल में होने से उसे दलीय खेल कैटेगरी में नॉमिनेट किया जाना चाहिए था। चूंकि उक्त दोनों खिलाड़ी मध्यप्रदेश राज्य खेल अकादमी में ही प्रशिक्षणरत है एवं चिंकी यादव के पिता मेहताब यादव खेल विभाग में ही कार्यरत है इस वजह से चयन समिति द्वारा नियम विरूद्ध तरीके से चहेतों को उपकृत कर प्रतिभावान खिलाड़ी श्रद्धा यादव का हक छीना गया है , इस गलती को सुधारकर श्रद्धा यादव को विक्रम अवार्ड देने व दोषपूर्ण चयन हेतु जिम्मेदार अधिकारियों आदि पे कानूनी कार्यवाही की मांग की गई है।
उल्लेखनीय है कि विक्रम अवार्ड के साथ मध्यप्रदेश शासन द्वारा खिलाड़ी को सरकारी नोकरी व एक लाख रुपये कैश प्राइज़्मनी दी जाती है, इसी वजह से चयन समिति द्वारा नियमो को ताक पर रख चहेतों को उपकृत किया गया है।
श्रद्धा यादव ने बताया कि चयन प्रक्रिया के दस्तावेज सूचना के अधिकार के तहत मांगे जाने पर निश्चित समयसीमा बीतने पर भी आजतक कोई दस्तावेज उपलब्ध नही कराए गए, पुनः गणना कर मुझे अवार्ड दिए जाने के आवेदन पर भी कोई जवाब ना दिए जाने से व्यथित होकर न्यायालय की शरण मे जाना पड़ा, मैने राष्ट्रीय स्पर्धाओं में 11 पदक जीतकर मध्यप्रदेश को गौरवान्वित की हूं, मुझे पूरी उम्मीद है कि मुझे मेरी मेहनत का फल मेरा विक्रम अवार्ड ज़रूर मिलेगा।

सिंगरौली लाइव

पैनी नज़र,पक्की ख़बर