*विस्थापितों ने रोकी एनसीएल की रफ्तार* *सैकड़ों की तादात में पहुंचे ग्रामीणों ने जयंत खदान का कार्य किया ठप, मौके पर भारी पुलिस बल तैनात

Spread the love


सिंगरौली लोकप्रिय विधायक रामलल्लू वैश्य विस्थापितों के मांगों के समर्थन में धरने पर बैठे हुए

सिंगरौली-
एनसीएल प्रबंधन द्वारा जयंत खदान के विस्तार के लिए ग्राम मेढौली वार्ड क्रमांक 10 का भू अर्जन किया जाना है। परंतु इसमे मुआवजा वितरण की राशि में बरती जा रही अनियमितताओं से आक्रोशित विस्थापितों ने आज जयंत खदान का कार्य पूरी तरह ठप कर दिया। गौरतलब है कि विस्थापितों के हितों के लिए आगे आए सिंगरौली विधायक रामलल्लू वैश्य द्वारा स्वयं खदान में पहुंचकर कार्य को बंद कराया गया। इस दौरान कई स्थानीय नेता समेत सैकड़ों की तादाद में ग्राम मेढौली के विस्थापित यहाँ मौजूद रहे। वहीं पूर्व सूचना के तहत जिला प्रशासन ने भी खदान क्षेत्र में भारी पुलिस बल तैनात कर दिया था। एसडीएम ऋषि पवार के साथ तहसीलदार जानवी शुक्ला, एसडीओपी मोरवा राजीव पाठक, मोरवा थाना प्रभारी मनीष त्रिपाठी समेत अन्य थाना प्रभारी भी भारी पुलिस बल के साथ यहां जमे हुए थे। इधर पूरे दिन भी खदान का कार्य प्रभावित रहने के बावजूद मामले पर ढुलमुल रवैया अपनाती एनसीएल प्रबंधन के आला अधिकारियों ने यहां पहुंचना उचित नहीं समझा। वहीं हमेशा की तरह इस मामले में भी मुख्य कार्मिक प्रबंधन जयंत आर बी प्रसाद लोगों को समझाने में जुटे रहे। प्रदर्शन कर रहे ग्रामीणों का आरोप है कि वह मुआवजा वितरण व पुनर्वास योजना के लिए लंबे समय से प्रबंधन के चक्कर काट रहे हैं। कई बार वार्ता के बावजूद उन्हें केवल आश्वासन ही प्राप्त हुआ। उनके द्वारा पत्र लिखकर विगत 12 तारीख तक इस मामले में स्पष्टीकरण मांगा गया था, जिसमें एनसीएल ने कोई जवाब नहीं दिया। इस संदर्भ में सिंगरौली विधायक रामलल्लू वैश्य द्वारा भी एक पत्र कोयला मंत्रालय को लिखा गया था, जहां से भी कोई जवाब नहीं आया। हालांकि इस मुद्दे पर सिंगरौली विधायक ने एनसीएल प्रबंधन पर आरोप लगाते हुए कहा कि कोयला मंत्रालय से भेजे गए पत्रों को प्रबंधन द्वारा दबा लिया जाता है। वहीं एनसीएल प्रबंधन विस्थापन के मुद्दे पर अपनी नीतियों को साफ नहीं करता जिस कारण लोगों में आक्रोश बढ़ता जाता है।
खदान का कार्य प्रभावित होने के बाद वहां पहुंचे जीएम जयंत आर बी प्रसाद व एनसीएल मुख्यालय से राजस्व विभाग की टीम की प्रशासनिक अधिकारियों व विस्थापितों से त्रिपक्षीय वार्ता खदान में ही शुरू हुई परंतु विस्थापित अपनी मांगों पर अड़े रहे और देर शाम तक वार्ता का कोई हल नही निकला।

सिंगरौली लोकप्रिय विधायक रामलल्लू वैश्य सिंगरौली लाइव यूट्यूब न्यूज़ चैनल को अपना बाइट देते हुए

सिंगरौली लाइव

पैनी नज़र,पक्की ख़बर